Veer Teja Mahila Shikshan avam Sodh Sansthan, Marwar Mundwa, Nagaur
9414117610, 9875081300
veertejaeducation@gmail.com
Welcome to our Website बालिका शिक्षा को समर्पित राजस्थान के नागौर जिले का एकमात्र बालिका संस्थान सम्पूर्ण मूण्डवा क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ परीक्षा परिणाम वीर तेजा महिला शिक्षण व शोध संस्थान, मारवाड़, मुंडवा में NCC का शुभारम्भ admission open 2020-21 जी.एन.एम. नर्सिग स्कूल में सत्र 2020.21 हेतु प्रवेश प्रारम्भ sc/st 100% scholarship विद्यालय एवं महाविद्यालय में कोरोना काल में छात्राओं को विशेष आॅफर सत्र 2020.21 हेतु प्रवेश प्रारम्भ महाविद्यालय की बी.एस.सी तृतीय वर्ष की छात्राओं का विश्वविद्यालय परीक्षा 2020 में पुरे जिले में परचम वीर तेजा महिला शिक्षण एवं शोध संस्थान तेजास्थली मारवाङ मूण्डवा RTE के तहत सत्र 2021-22 में कक्षा प्रथम में प्रवेश हेतु निशुल्क प्रवेश प्रारम्भ। आवेदन 11 अक्टूबर 2021 से 24 अक्टूबर 2021 तक। विद्यालयी एवं महाविद्यालयी छात्रा वाद-विवाद प्रतियोगिता ‘‘स्मृति 2022‘‘

Message from the Chief Guardian

 एस.एल. दुग्गड़  एस.एल. दुग्गड़
मुख्य संरक्षक
VTMSSS
संरक्षक शुभकामना संदेश
‘‘अच्छे फल के लिये अच्छे बीज की चिंता करो,
अच्छी ईमारत के लिये अच्छी नींव की चिंता करो,
और अच्छे संस्कारों व अच्छी शिक्षा के लिये तेजास्थली में अध्ययन करो’’
 
प्रिय विद्यार्थी बेटियों!
भारत के सुदूर पश्चिमी राज्य राजस्थान के नागौर जिले की हृदया´्चलि में स्थित माँ सरस्वती के पावन मन्दिर तेजास्थली में आगमन पर मैं आप सभी का हार्दिक सस्नेह स्वागत करता हूँ। इस महिला शिक्षण संस्थान की अनेंकों स्वस्थ व गौरवशाली परम्परायें रही है। मैं आशा करता हूँ, कि आप इनका निर्वहन करते हुए इन्हें आगे बढ़ाने हेतु सतत प्रयत्नशील रहेंगी, जिससे शिक्षा अर्जन के उपरान्त आप समाज में पुरूषों के समतुल्य अपना विशिष्ट स्थान बना सकें। आज के युग में ज्ञान के नितनूतन नैरंत्तर्यकी वेगवती ज्ञान गंगा की सहगामी प्रतिस्पर्धाओं में सफलता के लिये आपको अथक प्रयास, प्रबल जिज्ञासा, अध्ययन के प्रति गहन निष्ठा, सदाचरण व अनुशासन के साथ अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित रहना है।
वीर तेजा महिला शिक्षण एवं शोध संस्थान तेजास्थली प्रदेश के इस अर्द्धशुष्क अंचल में बालिका शिक्षा संवर्धन, महिला सशक्तिकरण-सम्बलन के अपने उद्देश्यों के प्रति समर्पण के साथ महिला शिक्षा की अलख जगा रहा है। इस वृहद् शिक्षण संस्थान के संस्थापक, प्रवर्तक एवं प्रेरक पुरोधा श्री भँवरसिंह डांगावास ने जिस बोधि वृक्ष को लगाया आज उसी को परम पुनीत शुभाशंषा एवं मनोयोग के साथ एक निपुण-निष्णांत, कुशल-कुशाग्र, महान दार्शनिक, शिक्षाविद् एवं उद्भट विद्वान मनीषी श्री सी.आर. चैधरी, केन्द्रीय राजयमंत्री मन-कर्म-वचन की त्रिवेणी से अभिसिंचित कर रहे हैं। आशा है कि यह बौधिवृक्ष कालान्तर में ‘कल्पतरू’ बनकर बहुविद पाठ्यक्रमों के साथ ज्ञान-विज्ञान की सघन सृष्टि व वृष्टि करेगा।
तेजास्थली का प्राकृतिक एवं नैसर्गिक शिक्षणोपयोगी, परिवेश, प्राचीन भारतीय गुरूकुल पद्धति, संयुक्त परिवार प्रथा, संस्कृति और सभ्यता का साक्षात आभास एवं दिग्दर्शन कराता है। संस्थान में विभिन्न ख्ेालों के लिये विस्तृत खेल मैदान, ज्ञानार्जन के लिये ग्रन्थागार तथ्यों की प्रामाणिकता के लिये सुसज्जित प्रयोगशालाएं है। चरित्र निर्माण, समाज सेवा व व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकासार्थ पाठ्येत्तर प्रवृतियों को प्रभावी संचालन इस संस्थान की अपनी अनुपम विशेषता है।
आईये, अपने जीवन के लक्ष्य प्राप्ति की इस पावन बेला मे तेजास्थली मे प्रवेश लेकर महिला शिक्षा संवर्धन-सम्बलन-सशक्तिकरण निमित संकल्पित होकर ‘महाराज मनु’ के ‘यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता’ के, स्वप्न को साक्षात एवं साकार करें। ।। आपके उज्जवल भविष्य के प्रति शुभकामनाओं के साथ, मातृ शक्ति को नमन।।
Reach out to us

Contact Information